शिकार, किसके संरक्षण में की जा रही वन्यप्राणियों की हत्या

बिलासपुर / लोरमी (वायरलेस न्यूज) शिकारियों के द्वारा बिछाए गये विद्युत तार के करेंट से हाथी की दर्दनाक मौत ! वन विभाग के द्वारा हाथी की निगरानी पर उठ रहें हैं सवाल…
24 नवंबर एटीआर से सटे हुए खुड़िया सामान्य वनपरिक्षेत्र अंतर्गत ग्राम भूतकछार वनक्षेत्र के कक्ष क्रमांक 486 में शिकारियों द्वारा बिछाये गए विद्युत तार से एक नर हाथी की करेंट के चपेट में आने से दर्दनाक मौत हो गयी!


विभाग की लारवाही आई सामने जंगली जानवरों की अवैध शिकार की पोल खुलती दिख रही है। वन्य जीव की सुरक्षा भगवान भरोसे है ! अधिकारियों कर्मचारियों के ऊपर ग्रामीणों के द्वारा सवाल उठाए जा रहे है! जांच में खुलेगी हाथी की मौत की सच्चाई! विभाग का हाथी मित्र दल एवं निगरानी दल आखिर कहा थे? जिस पर आम जनता सवाल खड़े कर रहें है।

मिली जानकारी के अनुसार वनपरिक्षेत्र खुड़िया की ग्राम भूतकछर के कक्ष क्रमांक 486 में एक मादा हाथी की लाश मिली है। 

मिली है। ग्रामीणों ने बताया यह लाश लगभग तीन से चार दिन पहले की है,आज शुक्रवार को एक चरवाहे जंगल से मवेशियों को चाराकर लौटने के दौरान बदबू से हाथी की शव को देखकर सहम गया। उसने यह खबर ग्रामीणों को दिया। फिर यह खबर पूरा आग की तरह क्षेत्र में फैल गया।
ग्रामीणों की सूचना 0बीटगार्ड और वनाधिकारियों सूचना पाकर घटना स्थल पहुँचे।
उक्त हाथी के की मौत तीन चार दिन पूर्व की बताया जा रहा है।

जंगल के पैदल गार्ड ,बीटगार्ड और अन्य मातहत क्या कर रहें थे? उसी क्षेत्र में आये दिन पेड़ काटकर अतिक्रमण कर लेते लोग अब जंगल के जानवर की मौत है।
सवाल उठता है- पंडरिया वनक्षेत्र से एटीआर से खुड़िया क्षेत्र में हाथियों की प्रवेश किया गया। ग्रामीणों ने बताया कि 6 हाथियों का दल जंगल मे प्रवेश किया गया था। जिसमे पांच हाथी खुड़िया वक्षेत्र से कटामी पहुँच गये। हाथियों का ट्रैकिंग क्यो नही किया गया सबसे बड़ा सवाल उठता है,इसके जिम्मेदार कौन है! हाथी की मौत कैसे हुई किस हालत में हुई यह जांच का विषय है।

ग्रामीणों ने आरोप लगया है,की शिकारी द्बरा लगाये गये बिजली तार के चपेट में आने से हांथी की मौत होने की आशंका जताई जा रही है! मृत हाथी की पैर में जख्म के निशान भी आसानी से दिख रहा है।
घटना स्थल पर विभागीय अधिकारी पहुँचकर मामले की विवेचना में जुटे है। मुंगेली वनमंडल के डीएफओ सत्यदेव शर्मा, एसडीओ,प्राभारी रेंजर सहित वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंच गए हैं। पंचनामा के बाद विभागीय कार्यवाही में जुटी है।ग्रामीणों से आवश्यक जानकारी जुटाई जा रही है।

Author Profile

Amit Mishra - Editor in Chief
Amit Mishra - Editor in Chief
Latest entries